Prerak Prasang Book

दूरबीन वाला विद्यार्थी - प्रेरक प्रसंग

दूरबीन वाला विद्यार्थी

motivational story in hindi,Prerak Prasang, प्रेरक प्रसंग, inspiring stories in Hindi, प्रेरणादायक कहानियां,

नैशविले में एक फोटोग्राफर की दुकान पर एक विद्यार्थी गया हुआ था । उसने देखा कि वहां पर किसी की एक पुस्तक छूटी हुई है। वह पुस्तक की ओर आकर्षित हुआ। उसने फोटोग्राफर से वह पुस्तक मांगी और रात भर पढ़ता  रहा  रहा पढ़ता  रहा  रहा। वह पुस्तक आकाशगंगा के बारे में थी।

वहीं और उसी समय उसने निश्चय कर लिया कि तारों से मंडित आकाश के विषय में जितना ज्यादा संभव हो हो, वह वह ज्ञान प्राप्त करेगा। तब उसने एक छोटी सी दूरबीन खरीदी दूरबीन खरीदी सी दूरबीन खरीदी दूरबीन खरीदी।

रात को वह कई-कई घंटे मकान की छत पर व्यतीत करता था। उस समय वह आकाश के सौंदर्य को देखता था था। अनेक दृश्य उसकी आश्चर्यचकित आंखों के सामने होते। के सामने होते। के सामने होते। इसमें उसे आनंद आता था। उसका वह आनंद प्रतिदिन बढ़ता ही जाता था।


अपनी थोड़ी सी आय में से ही उसने एक बड़ी दूरबीन खरीदी। उस दूरबीन के बड़े लेंस की सहायता से उसने जो खोज की वह बड़े-बड़े खोजकर्ताओं में चर्चा का विषय बन गई। उसका नाम संसार की वैज्ञानिकों में प्रसिद्ध में प्रसिद्ध हो गया। यह थे प्रोफेसर ई.ली बर्नर, जो आगे चलकर अमेरिकी वैज्ञानिकों में अत्यंत प्रसिद्ध वैज्ञानिक हुए , और वहां की एक बड़े विश्वविद्यालय की वेधशाला के अध्यक्ष बने अध्यक्ष बने अध्यक्ष बने।


Anmol Vachan - अनमोल वचन

"यह कितनी अनोखी लेकिन यथार्थ बात है, कि सोए हुए मनुष्य को जगाने की अपेक्षा जागते हुए मनुष्य को जगाना कठिन है। सोता हुआ आदमी अपना नाम सुनते ही चौंककर उठ बैठता है। जागता हुआ मनुष्य सोचता है, कि यह किसकी आवाज़ है ? उसे मुझसे क्या काम है ? इससे मेरा काम तो न निकल सकेगा ? जब इन प्रश्नों का  संतोषजनक उत्तर उसे मिलता है, तो वह उठता है, नहीं तो पड़ा रहता है।"
--प्रेमचंद--


हमें उम्मीद है कि आपको यह प्रेरक प्रसंग पसंद आया होगा । ऐसे ही prerak prasang और पढ़ने के लिए आप हमारी और पोस्ट भी पढ़ सकते हैं । ऐसी प्रेरणादायक कहानी हमको हमेशा motivation देती है ।
आप हमारे ब्लॉग को ईमेल से सब्सक्राइब भी कर सकते हैं ताकि कोई भी प्रेरक प्रसंग अथवा motivational story in hindi आप से मिस ना हो और आप हमेसा प्रेरणा से भरे रहें ।
आप कमेंट में हमें बता सकते हैं कि यह प्रेरक प्रसंग आपको कैसा लगा । 

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां