Prerak Prasang Book

बच्चों की कहानियां - गौतम बुद्ध के जीवन से जुड़ी ऐसी घटना जिसे पढ़कर बच्चों को मिलेगी नैतिक शिक्षा।

मैंने कुछ भी नहीं लिया 

बच्चों की कहानियां, bacho ki kahaniya, बच्चों की कहानियां कार्टून, बच्चों की कहानियां अच्छी अच्छी,  बच्चों की कहानियां नई नई,  बच्चों की मनोरंजक कहानियाँ,  बच्चों की कहानियाँ पिटारा,  कहानियां बच्चों की कहानियां,  बच्चों की नई कहानियां,  पंचतंत्र की कहानियां,  टूनी की कहानी,  बच्चों के लिए कहानियां,

महात्मा बुद्ध उन दिनों बौद्ध धर्म के प्रचार में लगे थे। ऐसे अनेक लोग थे, जिन्हें बुद्ध की बातें पसंद नहीं आती थी। बुद्ध के समर्थकों की संख्या बढ़ रही थी, तो उनके विरोधियों की संख्या भी कम नहीं थी।

एक दिन बुद्ध अपनी शिष्य मंडली के साथ किसी स्थान पर  ध्यानस्थ होकर बैठे थे। तभी एक व्यक्ति बुद्ध के पास आया। ध्यानस्थ बुद्ध ने अपनी आंखें खोली और उससे आने का कारण पूछा। उस व्यक्ति ने बुद्ध से कहा कि वे अपने उपदेश देना बंद कर दें।

बुद्ध बोले--" जब तक उपदेश बंद करने का सही कारण मेरी समझ में नहीं आता , मैं उपदेश देना बंद नहीं कर सकता।"

इस पर वह व्यक्ति उन्हें गालियां देने लगा। उसके गालियां देने पर वहां बैठे बौद्ध भिक्षुओं की समूह समूह में बेचैनी फैल गई। लेकिन बुध चुपचाप उस आदमी की गालियां सुनती रहे गालियां देते और बुरा भला कहते हुए वह व्यक्ति थक गया।

अब बुध ने शांतिपूर्वक पूछा पूछा , " क्यों मित्र  !  चुप क्यों हो गए ? तुम्हारे खजाने में अब देने के लिए क्या और कुछ नहीं बचा है ? जो चीज है उसे भी दे दो। दो। भी दे दो। दो। लेकिन विश्वास करो, तुमने मुझे जो भी दिया है कोमा उसमें से मैंने कुछ भी नहीं लिया है। इसलिए वह सब तुम्हारे पास ही रह गया है।"

वह व्यक्ति पानी-पानी हो गया और बुद्ध के चरणों पर गिर पड़ा।


अनमोल वचन

"मनुष्य का जीवन अपने ही हाथों में है, वह अपने को जैसा चाहे बना सकता है। इसका मूल मंत्र यही है, कि बुरे, छुद्र और अश्लील विचार मन में ना आने पाएं, वह बलपूर्वक इन विचारों को हटाता रहे, और उत्कृष्ट विचारों तथा भावों से अपने हृदय को पवित्र राखें ।

प्रेमचंद


हमें उम्मीद है कि आपको यह प्रेरक प्रसंग पसंद आया होगा । ऐसे ही prerak prasang और पढ़ने के लिए आप हमारी और पोस्ट भी पढ़ सकते हैं । ऐसी प्रेरणादायक कहानी हमको हमेशा motivation देती है ।
आप हमारे ब्लॉग को ईमेल से सब्सक्राइब भी कर सकते हैं ताकि कोई भी प्रेरक प्रसंग अथवा बच्चों की कहानियां आप से मिस ना हो और आप हमेसा प्रेरणा से भरे रहें ।

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां