Prerak Prasang Book

सरदार बल्लभ भाई पटेल की Motivational Story In Hindi - Prerak Prasang

सादगी "Prerak Prasang"
सरदार बल्लभ भाई पटेल की प्रेरणादायक कहानी
सरदार बल्लभ भाई पटेल,Vallabhbhai Patel,motivational story in hindi,Prerak Prasang, प्रेरक प्रसंग, inspiring stories in Hindi, प्रेरणादायक कहानियां,
सरदार बल्लभ भाई पटेल 
सरदार बल्लभ भाई पटेल के जीवन से जुड़ी यह inspiring motivational story in hindi आपके जीवन में सदाचार एवं सादगी को बढ़ाने में आपकी मदद करेगी और आपको प्रेरणा देगी ।  
सरदार बल्लभ भाई पटेल भारतीय लेजिसलेटिव असेंबली के प्रेसिडेंट थे । एक दिन वे असेंबली के कामों से निवृत्त होकर घर जाने को ही थे कि, एक अंग्रेज दंपत्ति असेंबली घूमने के लिए पहुंचे। अंग्रेज दंपत्ति विलायत से भारत घूमने आए थे। पटेल की लंबी दाढ़ी और सादे वस्त्र देखकर अंग्रेज दंपति ने उन्हें वहां का चपरासी समझा और असेंबली घुमाने के लिए कहा। पटेल बड़े ही विनम्र, सज्जन और कुशल प्रशासक थे। अंग्रेज दंपति का आग्रह वे टाल न सके। उन्होंने साथ रहकर पूरा असेंबली भवन घुमाया। अंग्रेज दंपत्ति बहुत खुश हुए और लौटते समय उन्हें बख्शीश के बतौर एक रुपैया देना चाहा किन्तु पटेल ने बड़े विनम्र शब्दों में इंकार कर दिया। अंग्रेज दंपति वहां से चली गए । दूसरे दिन असेंबली की बैठक थी। दर्शकों की गैलरी में बैठे अंग्रेज दंपति ने जब सभापति के आसन पर दाढ़ी वाले एवं सादे वस्त्रों वाले उसी व्यक्ति को बैठे देखा तो वे दंग रह गए । वे अपनी भूल का पश्चाताप करने लगे कि, जिसे वे चपरासी समझ रहे थे, वे सज्जन तो लेजिसलेटिव असेंबली के प्रेसिडेंट हैं।

आप कमेंट बॉक्स के माध्यम से हमें बता सकते हैं कि आपको सरदार बल्लभ भाई पटेल के जीवन से जुड़ी यह motivational story in hindi कैसी लगी । हमें उम्मीद है कि इस प्रेरणादायक कहानी के माध्यम से आपको कुछ सिखने को जरूर मिला होगा ।

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां