Prerak Prasang Book

Prerak Prasang In Hindi - तीलू रौतेली | Motivational Story

वीरबाला 'तीलू रौतेली'

Teelu Rauteli,प्रेरक प्रसंग,एक प्रेरक प्रसंग,आज का प्रेरक प्रसंग,प्रेरक कहानी,प्रेरणादायक कहानी,मॉरल स्टोरी,prerak prasang,prerak prasang in hindi,prerak katha,prerak prasang hindi,hindi prerak prasang,prerak prasang hindi me,prerak kahaniya,prerak kathaye,
तीलू रौतेली
वह गुराड़  की थोकदार की बेटी थी | उसकी दो सहेलियाँ थी 'देवकी और बेलू । वह बचपन से ही अपनी सहेलियों के साथ बहादुरी के खेल खेला करती थी | कुश्ती,  घुड़सवारी और तलवार चलाने का उसे अच्छा अभ्यास हो गया था |

एक बार उसके इलाके पर शत्रुओं ने आक्रमण कर दिया | सैनिक वीरता पूर्वक लड़े लेकिन इलाके की रक्षा करते हुए उसके पिता भूपसिंह गोला और भाई भगतू तथा पतवा शहीद हो गए | वह स्वाभिमानी बालिका थी | पिता और भाइयों के बलिदान के बाद भी उसने शत्रु के सामने झुकना स्वीकार नहीं किया | उसने पुरुष वेश धारण किया | अपनी बची-खुची बिखरी सेना को संगठित किया और फिर से शत्रुओं को ललकारने निकल पड़ी | उस वक्त उसकी उम्र मात्र 15 वर्ष थी | 

वह लगातार 7 वर्ष तक आक्रमणकारियों से जूझती रही आखिर उसने दुश्मनों को राज्य से बाहर खदेड़ कर ही दम लिया |

शत्रुओं पर विजय प्राप्त कर एक दिन जब वह वापस अपने गांव लौट रही थी, एक स्थान पर एकांत पाकर वह नदी में स्नान करने उतरी | तभी किसी शत्रु सैनिक ने उसे देख लिया और पीछे से वार कर धोके से मार डाला |
यह वीरांगना इतिहास में वीरबाला तीलू रौतेली के नाम से विख्यात है |

हमें उम्मीद है कि आपको यह प्रेरक प्रसंग पसंद आया होगा । ऐसे ही prerak prasang और पढ़ने के लिए आप हमारी और पोस्ट भी पढ़ सकते हैं । ऐसी प्रेरणादायक कहानी हमको हमेशा motivation देती है ।
आप हमारे ब्लॉग को ईमेल से सब्सक्राइब भी कर सकते हैं ताकि कोई भी प्रेरक प्रसंग अथवा motivational story in hindi आप से मिस ना हो और आप हमेसा प्रेरणा से भरे रहें ।
आप कमेंट में हमें बता सकते हैं कि यह प्रेरक प्रसंग आपको कैसा लगा । 

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां