Kaffu Chauhan Ki Story - कफ्फू चौहान

कफ्फू चौहान, प्रेरक प्रसंग, prerak prasang, प्रेरक प्रसंग,एक प्रेरक प्रसंग,आज का प्रेरक प्रसंग,प्रेरक कहानी,प्रेरणादायक कहानी,मॉरल स्टोरी

सन 1500 ई. की बात है | अजयपाल गढ़वाल के राजा थे | और उप्पू गढ़ के गढ़पति थे Kaffu Chauhan । अजय पाल ने Kaffu Chauhan को संदेश भेजा,  " गढ़वाल के अधिकांश गढ़पतियों ने मेरी अधीनता स्वीकार कर ली है । आप भी मेरी अधीनता स्वीकार करें या युद्ध के लिए तैयार रहें ।" Kaffu Chauhan ने अजयपाल की अधीनता स्वीकार करने से मना कर दिया । अजय पाल ने उप्पू गढ़ पर आक्रमण कर दिया । घोर युद्ध हुआ । Kaffu Chauhan की हार हुई। अजयपाल की सेना ने Kaffu Chauhan को बंदी बना लिया । उसे अजयपाल के सामने पेश किया गया | अजयपाल Kaffu Chauhan की वीरता से बड़ा प्रभावित था । उसने Kaffu Chauhan की वीरता की प्रशंसा करते हुए कहा,  " आप गढ़वाल राज्य की अधीनता स्वीकार कर लो। आपको पूर्ण सम्मान दिया जाएगा।"

Kaffu Chauhan निर्भीकता से बोला, " मुझे उप्पू गढ़ की स्वाधीनता खो कर सम्मान पाना स्वीकार नहीं ।" अजय पाल को क्रोध आ गया । उसने अपने सैनिकों को आदेश दिया,  "इसका सिर इस तरह काटो कि वह मेरे पैरों में गिरे ।" Kaffu Chauhan ने चुपचाप एक मुट्ठी बालू अपने मुंह में भर ली । जैसे ही तलवार कफ्फू की गर्दन पर पड़ी, उसने अपना सिर पीछे को झटक लिया । Kaffu Chauhan का सिर पीछे की ओर जा गिरा और उसके मुंह की बालू अजयपाल के चेहरे पर जा गिरी ।

अजय पाल उस वीर के स्वाभिमान को देखकर चकित रह गया । उसने पूरे सैनिक सम्मान के साथ Kaffu Chauhan का अंतिम संस्कार किया ।

हमें उम्मीद है कि आपको यह प्रेरक प्रसंग पसंद आया होगा | ऐसे ही मजेदार तथा प्रेरणादायक प्रेरक प्रसंग तथा लघु प्रेरक प्रसंग पढ़ने के लिए आप हमारे ब्लॉग को सब्सक्राइब कर सकते हैं तथा अपने विचार कमेंट में हमें बता सकते हैं |

Post a Comment

0 Comments