Prerak Prasang Book

आचार्य सुश्रुत शल्य चिकित्सा के जनक - प्रेरक प्रसंग

नई नाक 'सुश्रुत'"प्रेरक प्रसंग"

सुश्रुत,Sushruta,Acharya Sushruta Father of Surgery,प्रेरक प्रसंग,एक प्रेरक प्रसंग,आज का प्रेरक प्रसंग,प्रेरक कहानी,प्रेरणादायक कहानी,मॉरल स्टोरी,prerak prasang,prerak prasang in hindi,prerak katha,prerak prasang hindi,hindi prerak prasang,prerak prasang hindi me,prerak kahaniya,prerak kathaye,
सुश्रुत
एक बार एक व्यक्ति रोता हुआ सुश्रुत के पास आया | उसकी नाक कटी हुई थी और उससे खून बह रहा था | उसकी आंखों में आंसू बह रहे थे | बहुत दर्द से कराह रहा था | सुश्रुत ने उसे ढाढस बंधाया | बोले,  " सब ठीक हो जाएगा |"

उन्होंने उसे एक साफ-सुथरे बिस्तर पर लिटाया | उसके कपड़े उतारे और दवा मिले पानी से उसका मुंह धोया | इसके बाद उसे एक तरह की नशीली दवा पीने को दी और शल्य चिकित्सा में जुट गए |

बगीचे से एक पत्ता लेकर उन्होंने अजनबी की नाक नापी | चाकू और चिमटी लेकर उन्हें गर्म किया | उसी गर्म चाकू से आदमी के गाल से कुछ मांस काटा | आदमी कराहा लेकिन नशीले द्रव्य के कारण उसे दर्द कम महसूस हुआ | गाल पर पट्टी बांधकर सुश्रुत ने सावधानी से उसकी नाक में दो नलिकाएँ डाल दीं | काटे हुए मांस और नाक पर दवाई लगाकर उसे नाक के ऊपर जोड़ दिया और नाक को सही आकार दे दिया |

फिर नाक पर घुँघची, लाल चंदन का महीन बुरादा और हल्दी का रस लगाकर पट्टी बांध दी | अंत में सुश्रुत ने उस अजनबी आदमी को कुछ दवाइयां और बूटियाँ दी, और उसे घर भेज दिया | दवाइयों के सेवन से अजनबी की नाक पहली से अधिक सुंदर और सुडौल हो गई |

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां